दरियाई घोड़े जानिए 20 रोचक तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! Hippopotamus in Hindi

हिप्पोपोटामस (Hippo) को हिंदी में ‘दरियाई घोडा’ (Hippopotamus) कहा जाता है, दरियाई घोडा एक विशालकाय जानवर है। ये भूरे रंग के होते हैं और उनके छोटे-छोटे चार पैर, छोटा पूँछ और विशाल सिर होते हैं। हिप्पोपोटामस अर्ध-जलीय जानवर होने के कारण अपना ज्यादातर समय पानी या कीचड़ में बिताते हैं। आज हम ‘दरियाई घोड़े’ के बारे में मजेदार और रोचक तथ्य प्रस्तुत कर रहे हैं, जो आपके लिए दिलचस्प साबित हो सकते हैं।”

दरियाई घोड़े के बारे में जानकारी | Information About Hippopotamus in Hindi

  • नाम – दरियाई घोडा (हिप्पोपोटेमस या हिप्पो)
  • वैज्ञानिक नाम – Hippopotamus amphibious
  • जानवर का प्रकार – स्तनधारी
  • सामान्य जीवनकाल – 40 वर्ष तक
  • भोजन – शाकाहारी
  • आकार – सिर और शरीर: 9.5 से 14 फीट; पूंछ: 13.75 से 19.75 इंच
  • वजन – 1.5 से 4 टन

दरियाई घोड़े की जानकारी | Facts of Hippopotamus in Hindi

Hippopotamus in Hindi

1. सोचा था कि घोड़े सिर्फ सड़कों पर दौड़ते हैं? ये क्या सुनने को मिल रहा है – दरियाई घोड़े को तैरना नहीं आता! जी हां, यह वाकई मायने रखता है। ये विशालकाय जानवर तो पानी में तैरने की बजाय अपना समय ज्यादातर पानी में ही बिताते हैं। इसके पास पानी में रहने का कुछ खास अनुभव हो सकता है, जिसके कारण ही इसे ‘दरियाई घोड़ा’ या ‘रिवर हॉर्स’ कहा जाता है।

2. आपने सही सुना, ये घोड़े पानी में आगे बढ़ने के लिए तैरने की जगह जमीन को धक्का देते हैं! यानी कि वो जल में स्वागत करने के लिए तैयार नहीं होते, बल्कि अपने पैरों की मदद से जमीन को धक्का देते हैं। और ध्यान दें, ये बिना सांस लिए बहुत देर तक पानी के नीचे रह सकते हैं!

दरियाई घोड़ा कैसे होते हैं?

3. दरियाई घोड़े की शारीरिक बनावट की खासियत है जिसके कारण वो जलीय जीवन के लिए अद्वितीय रूप से अनुकूलित हैं। इनकी नाक, कान, और आँखें शरीर के सबसे ऊपरी हिस्से पर स्थित होती हैं, जिसके कारण वे पानी के नीचे डूबकर भी सुन और देख सकते हैं!

4. क्या आपको यह जानकर आश्चर्य होता है कि दरियाई घोड़े (Hippopotamus) को तैरना नहीं आता? इसका मतलब यह नहीं है कि वे पानी में वक्त बिताने में महिर हैं! वास्तव में, ये विशालकाय जानवर अपने अधिकांश समय को पानी में ही गुजारते हैं, जिससे उन्हें अपने शरीर को ठंडा रखने और धूप से बचने में मदद मिलती है।

5. चमकते धूप के नीचे आकर जब ये पानी से बाहर निकलते हैं, तो क्या देखने को मिलता है? वे अपनी त्वचा को ठंडा रखने के लिए एक अद्वितीय लाल रंग के तरल का स्त्राव करते हैं! इस अनोखे लाल रंग के पसीने को अंग्रेजी में ‘ब्लड-स्वीट’ कहा जाता है।

6. ये जानकर आप हैरान हो सकते हैं कि हिप्पोपोटामस पूरी तरह से शाकाहारी हैं और उन्हें घास खाना पसंद है! ये रात के समय में पानी से बाहर निकलकर चारा खाने जाते हैं और कई घंटों तक चारा खाते रहते हैं। ये एक ही रात में 60 किलो से भी ज्यादा चारा खा सकते हैं।

7. एक दरियाई घोड़े (हिप्पो) का वजन 1500 से 3200 किलोग्राम तक हो सकता है, जिससे वे हाथी और गैंडे के बाद धरती पर रहने वाले तीसरे सबसे बड़े जानवर होते हैं।

8. अपने क्षेत्र को चिह्नित करने के लिए, हिप्पोपोटामस अपने मल-मूत्र का उपयोग जगह-जगह करते हैं।

9. हिप्पोपोटामस आपको प्यारे लग सकते हैं, लेकिन ये बेहद खतरनाक होते हैं। वे अपने आसपास के क्षेत्र में आने वाले किसी भी जीव पर हमला कर सकते हैं। इनके दांत खतरनाक होते हैं और उनकी लंबाई 50 सेंटीमीटर तक पहुंच सकती है, जो लगातार बढ़ते रहते हैं।

10. ये आक्रामक भी हो सकते हैं। हिप्पो को जम्हाई में देखने या उनके हसने की आवाज सुनने पर आपको सजग रहने की जरूरत हो सकती है, क्योंकि ये खतरे की घंटी हो सकते हैं और किसी भी समय हमला कर सकते हैं।

Hippopotamus in Hindi

11. दरियाई घोड़े का जीवनकाल जंगलों में लगभग 40 वर्ष का होता है, जबकि इन्हें विशेष देखभाल में पाला जाता है तो वे 50 वर्षों तक भी जीवित रह सकते हैं।

12. यद्यपि दरियाई घोड़े का वजन भारी और भरकम होता है, उन पर किसी अन्य जीव का हमला करने की साहसिकता नहीं होती है, और उन्हें किसी भी शिकारी जानवर से ज्यादा खतरा नहीं होता। लेकिन इनकी घटती हुई आबादी का मुख्य कारण मनुष्य द्वारा किया जाने वाला शिकार है।

13. ये शानदार स्तनधारी जीव कभी पूरे उप-सहारा अफ्रीका में विचरण करते थे। हालांकि, निवास स्थानों के क्षतिग्रस्त होने और बड़ी संख्या में शिकार के कारण दरियाई घोड़े की जनसंख्या में कमी आ गई है। आजकल, ये पूर्वी अफ्रीकी देशों के संरक्षित क्षेत्रों तक ही सीमित हो गए हैं।

14. दरियाई घोड़े को अफ्रीका के सबसे खतरनाक जानवर माना जाता है, जबकि ये मांस नहीं खाते हैं। फिर भी, उनकी बाग़बानी से लेकर किसी को भी मार सकते हैं।

दरियाई घोड़े का वजन कितना होता है

15. दरियाई घोड़े का वजन 4 टन से भी अधिक हो सकता है।

16. ये जानवर हमेशा झुण्ड में रहने की प्राथमिकता देते हैं, और उनके झुण्ड में आमतौर पर 30 से 40 दरियाई घोड़े एक साथ होते हैं। इनके डुबकी लगाते समय पानी और कीचड़ में दिखाई देते हैं।

17. हिप्पोपोटामस का भारी शरीर होता है और उनके पैर छोटे होते हैं, लेकिन फिर भी वे 48 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ सकते हैं।

18. दरियाई घोड़े (हिप्पोपोटामस) की चर्बी बहुत मोटी होती है और उसकी मोटाई 6 सेंटीमीटर तक हो सकती है।

19. इनके शरीर के ऊपरी हिस्से की चमड़ी इतनी मोटी होती है कि उसे बुलेटप्रूफ बनाया जा सकता है, और इसलिए शिकारी उनके निचले हिस्से पर गोली चलाते हैं।

20. दरियाई घोड़े और व्हेल मछली के बीच एक आश्चर्यजनक संबंध होता है, और इसके अलावा वैज्ञानिकों के अनुसार उनका सूअर से भी दूर का रिश्ता है।

Leave a Comment